वो लम्हें .

यूँ तो वो लम्हें गुज़र गये,
यूँही एक पल में.

आज भी उन्ही रास्तों पर चलता हूँ,
जहा हुआ करती थी मुलाक़ातें.

आज भी वाहा एक हवा का झोंका,
तुम्हारी हसी गुनगुनता है.

आज भी वो अनकही बातें,
तुम्हारी आँखों को तलाशती है.

यूँ तो वो लम्हें गुज़र गये,
यूँही एक पल में.

मगर आज भी ये साँसें,
उनकी यादों में फिर झूम जाती हैं.

Advertisements

One thought on “वो लम्हें .

  1. beeslifeblog © says:

    Chu leti hai har najar uss yaad ko, lamhe to gujar gaye par yaadein to abhi gehrati jaa rhai hai.
    really nice composition.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s