खुशी के नकाब |

23782195_1778035265542700_996806642_n
Photo credits : @hyzir on instagram.

जचते हैं खुशी के नकाब इस पीढ़ी को..
ये आँसू छुपाते हैं हसी से,
और गमों को धूएं में उड़ाते हैं.
जचते हैं ये ज़िंदगी के झूठे जशन
इन्न नकाबों के रंगीन बाज़ार में.

मगर छुपते नहीं कुछ ज़ख़्म आसानी से..
किसिके प्यार की अधूरी कहानी के..
आँखों पर पट्टी बाँधे कौन चल पाता है ?
ये आँखें जो छुपाई नहीं जाती,
ये आँखें सब बयाँ कर जाती हैं.
कौन किसके गम में रोया,
और किसने जागते रातें काटी हैं..

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: